सिर्फ 30 सेकेंड्स में करे कोई भी मोबाइल हेक !

आप अपने स्‍मार्टफोन पर हर तरह की ट्रांजेक्‍शन करके अपना खूब समय बचाते हैं, लेकिन यही स्‍मार्टफोन आपकी जेब में सेंध लगा सकता है.

अब लैपटॉप और डेस्कटॉप का जमाना गया लोग अपना हर काम स्मार्टफोन की मदद से ही करते हैं. प्रोफेशनल लाइफ से लेकर पर्सनल लाइफ तक सबकुछ स्मार्टफोन से जुड़ गया है. चाहें बात बैंक पासवर्ड से जुड़ी हुई हो या किसी पार्टी की फोटोज से आपका स्मार्टफोन अगर किसी गलत हाथ में पड़ जाए तो काफी मुश्किल हो सकती है. अगर हम आपसे कहें की स्मार्टफोन से जुड़ी कुछ जानकारियां मात्र 30 सेकेंड में कोई भी आसानी से चुरा सकता है. जी हां, आज हम आपको बताने जा रहे किस तरह आपके स्मार्टफोन का उपयोग कर हैकर आपको चुना लगा सकते है

टिल्ट सेंसर

अगर आप ऑफिस कर्मचारी हैं तो स्मार्टफोन को अपनी डेस्क पर रखना आपकी आदत बन चुकी होगी. स्मार्टफोन में एक डिवाइस लगा होता है जिसका नाम टिल्ट सेंसर है. अगर किसी हैकर ने आपके स्मार्टफोन को शिकार बना लिया है तो इस डिवाइज की मदद से आसानी से कम्प्यूटर पर हो रही हर गतिविधी का पता लगाया जा सकता है. इसके जरिए सेव किए हुए पासवर्ड, बैंक अकाउंट, सिस्टम पर क्या टाइप हो रहा है, यहां तक की नॉन वेज चैट को भी आसानी से कॉपी किया जा सकता है.

स्मार्टफोन सेंसर

स्मार्टफोन के सेंसर की मदद से आसानी से क्रेडिट कार्ड के सारे राज खोले जा सकते हैं. इसके लिए बस स्मार्टफोन को क्रेडिट कार्ड के करीब लाने की जरूरत है. इसके लिए स्मार्टफोन से निकलने वाली वेव्स का सहारा लिया जाता है. बस किसी अनुभवी हैकर के सामने अपना क्रेडिट कार्ड रखिए और काम तमाम. इसके अलावा भी कई ऐसे तरीके हैं जो स्मार्टफोन का इस्तेमाल जरूरी जानकारी चुराने के लिए प्रयोग किए जाते हैं. फ्री चार्जिंग सर्विस स्टेशन और वायरलेस चार्जिंग से लेकर किसी अन्य सॉफ्टवेयर की मदद से स्मार्टफोन हैक किया जा सकता है.

हैकिंग सॉफ्टवेयर

इस तकनीक के माध्यम से हैकर उस फोन की तलाश में रहते हैं जिसमें ब्लूटूथ या वाई फाई का उपयोग हो रहा हो. इसके लिए हैकर किसी भीड़ वाली जगह में अपने लैपटॉप पर हैकिंग सॉफ्टवेयर को एक्टिवेट करता है. यह सॉफ्टवेयर एक एंटीने के जरिए उपयोग में आ रहे नजदीकी ब्लूटूथ के सिग्नल को पकड़ लेता है. फिर अपने लैपटॉप के जरिए वह आपके मोबाइल पर उपलब्ध सारी जानकारी हासिल कर उसका उपयोग कर सकता है.

क्या आप जानते हैं गूगल पर कुछ सवाल और जानकारियां सर्च करने से आप सुरक्षा और जांच एजेंसियों के रडार पर आ सकते हैं. आइए आपको उन चीजों के बारे में बताते हैं जिन्हें गूगल पर सर्च न करने में ही भलाई है.

आज सभी के हाथ में स्मार्टफोन है और स्मार्टफोन से हम गूगल सर्च का उपयोग भी करते हैं. अब तो फोन में गूगल असिस्टेंट का सपोर्ट मिल रहा है जिसकी मदद से हम अपनी आवाज में बोलकर भी सर्च कर सकते हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि कुछ ऐसे सवाल और जानकारियां भी हैं जिन्हें गूगल पर सर्च करने से आप सुरक्षा और जांच एजेंसियों के रडार पर भी आ सकते हैं. आइए आपको उन चीजों के बारे में बताते हैं जिन्हें गूगल पर सर्च न करने में ही भलाई है.

गूगल पर आप मजाक में या टाइम पास करने के लिए भी बम बनाने का तरीका सर्च करते हैं तो आपको पुलिस घर से उठा ले जा सकती है. दरअसल क्राइम और साइबर की नजर उन यूट्यूब चैनल और वेबसाइट्स पर होती है जिन पर बम बनाने के तरीके सिखाए जाते हैं. ऐसे में आप इन वेबसाइट पर जाते हैं पुलिस की नजर में आ सकते हैं और आपके आईपी एड्रेस के आधार पर पुलिस आपके पास पहुंच सकती है.

अगर आप गूगल पर किसी वजह से या जानबूझकर चाइल्ड पौर्न के बारे में सर्च कर रहे हैं तो आज ही बंद कर दीजिए, क्योंकि ऐसा करना आपको भारी पड़ सकता है. बता दें कि भारत में चाइल्ड पॉर्न देखना, बढ़ावा देना और जानकारी इकट्ठा करना गैरकानूनी है.

ऐसी कोई जानकारी गूगल पर सर्च ना करें जिसकी आपकी पहचान जाहिर हो रही हो. जैसे- लोकेशन, औफिस और घर के बारे में सर्च ना करें. उदाहरण के तौर पर आप गांव का लोकेशन तो सर्च कर सकते हैं लेकिन डायरेक्ट एड्रेस डालकर गूगल में सर्च करना खतरे से खाली नहीं है.

इस नए फीचर के आने के बाद आप स्वाइप राइट जेस्चर की मदद से किसी भी मैसेज का तेजी से रिप्लाई कर पाएंगे. इसका मतलब यह हुआ कि अब आपको रिप्लाई बटन के लिए मैसेज को दबाने और होल्ड करने की जरूरत नहीं होगी.

2018 में व्हाट्सऐप ने तेजी से नए फीचर को लौन्च किया और उनकी टेस्टिंग की है. कंपनी इन दिनों व्हाट्सऐप एंड्रायड ऐप के लिए स्वाइप टू रिप्लाई फीचर देने के लिए काम कर रही है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि स्वाइप टू रिप्लाई फीचर पहले से iOS यानी आईफोन ऐप के लिए मौजूद है. यूजर्स की सहूलियत के लिए व्हाट्सऐप स्वाइप टू रिप्लाई फीचर को लाया जा रहा है. इस नए फीचर के आने के बाद आप स्वाइप राइट जेस्चर की मदद से किसी भी मैसेज का तेजी से रिप्लाई कर पाएंगे. इसका मतलब यह हुआ कि अब आपको रिप्लाई बटन के लिए मैसेज को दबाने और होल्ड करने की जरूरत नहीं होगी. इसके अलावा कंपनी एक और नए फीचर पर भी काम कर रही है. यह नया फीचर डार्क मोड के नाम से जाना जाएगा.

WABetaInfo की रिपोर्ट के मुताबिक, कंपनी व्हाट्सऐप एंड्रायड ऐप के लिए स्वाइप टू रिप्लाई फीचर देने के लिए काम कर रही है. व्हाट्सऐप ने Google Play Beta Programme में नए अपडेट को सबमिट किया है. कंपनी के बीटा वर्जन 2.18.282 में स्वाइप टू रिप्लाई फीचर उपलब्ध है. रिपोर्ट में दावा किया गया कि तकनीकी वजहों के कारण यह फीचर अभी उपलब्ध नहीं है. कई सुधार करने के बाद ही एंड्रायड यूजर के लिए फीचर को जारी किया जाएगा. कहा जा रहा है कि आने वाले कुछ अपडेट्स में इस फीचर को रोल आउट किया जा सकता है. स्वाइप टू रिप्लाई फीचर आने के बाद आप दाहिने तरफ उस मैसेज को स्वाइप करें जिसको आपको रिप्लाई करना चाहते हैं. ऐसा करने के बाद व्हाट्सऐप अपने आप रिप्लाई बौक्स में उस मैसेज को लोड कर देगा.

कंपनी ऐप में डार्क मोड फीचर देने पर भी काम कर रही है. WABetaInfo द्वारा किए ट्वीट के मुताबिक, iOS और एंड्रायड ऐप में डार्क मोड फीचर देने के लिए व्हाट्सऐप ने काम शुरू कर दिया है. रिपोर्ट में फिलहाल इस बात का जिक्र नहीं है कि इस फीचर को आखिर कब तक जारी कर दिया जाएगा. नए फीचर के आने के बाद व्हाट्सऐप को रात में या फिर कम रोशनी में इस्तेमाल करने पर यूजर्स की आंखों को होने वाला तनाव कम हो जाएगा. केवल इतना ही नहीं, ओलेड डिस्प्ले वाले स्मार्टफोन की बैटरी को बचाने में भी यह फीचर मददगार साबित होगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *